उत्तराखंड टिहरी,सत्ताधारी पार्टी के विधायक का धरना लाया रंग। नतमस्तक हुई जीवीके कंपनी मानी सारी बातें ।

देवप्रायग विधायक विनोद कंडारी का धरना लाया रंग। नतमस्तक हुई जीवीके कंपनी मानी सारी बातें ।जीवीके कम्पनी के बीच हुए करार के तहत जीवीके कम्पनी  द्वारा किये गये वादों को पूरा नहीं किया जा रहा था। वादों को पूर्ण किये जाने की मांग को लेकर विगत कई दिनों से प्रभावित गांवों के ग्रामीण धरने पर बैठे हुवे थे। प्रभावित ग्रामीणों की सुनवायी को लेकर जिलाधिकारी सोनिका ने धरने पर बैठे ग्रामीणों के प्रतिनिधि विधायक विनोद कंडारी सहित एसएसपी योगेन्द्र सिहं रावत, एसडीएम कीर्तिनगर नुपुर वर्मा की उपस्थिति में जीवीके कम्पनी के परियोजना समन्वयक संतोष रेड्डी व अन्य पदाधिकारियों के साथ कलक्ट्रेट सभागार में बैठक की। लेकिन बात न बनने पर देवप्रयाग विधायक विनोद कण्डारी कंपनी प्रबंधन की मनमानी के चलते देवप्रयाग विधायक बैठक छोड़कर बाहर निकल गए और डीएम ऑफिस के बाहर धरने पर बैठ गए.

क्षेत्र के विभिन्न मुद्दों को लेकर विधायक का कहना था कि मेरे धरने पर बैठते ही दो मांगों पर सहमति बन गई थी लेकिन जब तक चौरास क्षेत्र के आसपास की सड़क के मरम्मत का कार्य आज ही 6 घंटे के अन्दर शुरू नहीं होगा तब तक वो धरने पर बैठे रहेंगे।
इस बीच जिलाधिकारी द्वारा जीवीके कम्पनी के पदाधिकारियों पर ग्रामीणों से किये गये वादों को पूर्ण करने का दबाव डाला गया। जिसके फलस्वरूप जीवीके कम्पनी के परियोजना समन्वयक संतोष रेड्डी ने धारीगाॅंव के 20 मकानों के शेष रहे 50 प्रतिशत प्रतिकर को 20 अक्टूबर तक भुगतान किये जाने पर सहमति जतायी। वहीं धारीगाॅंव की 28 दुकानों का भुगतान रूपये 1 लाख 75 हजार प्रति दुकान के हिसाब से तीन से छः माह के भीतर किये जाने पर सहमति जतायी। ग्राम सेंगरी के 180 परिवारों के शेष रहे 50 प्रतिशत प्रतिकर का भुगतान दो माह के भीतर किये जाने पर सहमति जतायी। जबकि ग्राम गन्डासू और महरगाॅंव के पैकेज सम्बन्धी मामलों में सरकार विधिक राय लेगी। विधायक विनोद कण्डारी की जिद पर चैरास रोड़ की मरम्मत तत्काल किये जाने पर भी जीवीके कम्पनी के पदाधिकारियों द्वारा सहमति जतायी गयी। इसी के साथ विधायक विनोद कण्डारी के साथ-साथ कीर्तिनगर में चल रहा प्रभावित ग्रामीणों का धरना-प्रदर्शन भी समाप्त हो गया हैं।

Spread the love

You may have missed