केंद्र सरकार ने स्पष्ट निर्देश दिए है कि स्वास्थ्यकर्मियों से टीके के एवज में कोई राशि नहीं ली जाएगी।

 

उत्तराखंड प्रदेश में 93 हजार से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का टीका मुफ्त लगाने की तैयारी उत्तराखंड सरकार कर रही है। स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी का कहना है कि केंद्र सरकार ने स्पष्ट निर्देश दिए है कि स्वास्थ्यकर्मियों से टीके के एवज में कोई राशि नहीं ली जाएगी। लेकिन बुजुर्ग व बीमार लोगों को टीका मुफ्त लगेगा या नहीं, इस पर स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है। केंद्र सरकार देशभर में टीकाकरण के पहले चरण में उत्तराखंड को कोरोना की करीब 20 लाख वैक्सीन देने जा रही है। इसके तहत उत्तराखंड के सरकारी अस्पतालों में कार्यरत स्थाई कर्मचारियों व संविदा, उपनल, पीआरडी आदि कर्मियों के साथ निजी अस्पतालों के स्वास्थ्यकर्मियों को भी टीका निशुल्क लगेगा। इसके अलावा करीब एक लाख फ्रंटलाइन वर्कर, पांच लाख बीमार और तकरीबन 13 लाख बुजुर्गों को टीके लगाए जाने हैं। नेगी ने कहा कि संकेत मिले हैं कि टीका जनवरी की शुरुआत में उत्तराखंड को मिल जाएगा। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग टीकाकरण की तैयारियों में जुटा है। उन्होंने बताया कि बीमार और बुजुर्ग लोगों को लगने वाले टीके का शुल्क लगेगा या नहीं, इस संदर्भ में केंद्र सरकार ने अभी स्थिति स्पष्ट नहीं की है। हालांकि मेरा मानना है कि इस वर्ग के लिए भी टीकाकरण निशुल्क हो सकता है।

 

Spread the love

You may have missed