ऋषिकेश में नागरिकता के लिए ठोकर खा रहे पाकिस्तान से आये शरणार्थी

पाकिस्तान को छोड़कर भारत आने के बाद ऋषिकेश में रह रहे 148 परिवारों को पिछले कई वर्षों से नागरिकता की दरकार थी। कई बार पूर्व में रही सरकारों से गुहार भी लगाई लेकिन नागरिकता नहीं मिलपाई , लेकिन अब देश मे CAA लागू होने के बाद अब इस परिवारों को नागरिकता मिलने की उम्मीद जगी है। ऋषिकेश में पिछले लगभग 30 वर्षों से राह रहे पाकिस्तानी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता न मिलपाने कि वजह से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था,नागरिकता नही होने के कारण इसको भारत मे चल रहे किसी भी योजना का लाभ तक नही मिल पाता था,यहां राह रहे परिवारों का कहना है कि पूर्व में रही सरकारों से कई बार पत्राचार कर नागरिकता देने की गुहार लगाई लेकिन किसी ने एक भी नही सुनी ,नागरिकता न होने की वजह से प्रतिवर्ष उनसे जुआन के रूप में हजारों रुपये भी वसूले जाते थे,अब परिवारों का कहना है कि जब से वर्तमान सरकार ने देश मे CAA लागू किया है तभी उन्हें उम्मीद जगी है कि अब उनको नागरिकता जल्द मिल जाएगी।

आज ऋषिकेश पंहुचे भजापा के प्रदेश महामंत्री अनिल गोयल ने आज शरणार्थियों से मुलाकात की और उनको जल्द नागरिकता दिलाई जाएगी,उन्होंने कहा कि प्रत्येक स्थान पर तीन तीन लोगों की टीम बनाकर यहां रहने वाले लोगों का चिन्हीकरण किया जाएगा और फिर उनका रजिस्ट्रेशन होगा,उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया के बाद शरणार्थियों को नागरिकता मिल जाएगी।

Spread the love