बाहरी -बाहरी, भीतरी कर गया भीतरघात।

बाहरी- बाहरी करते करते भीतरी ही हत्यारा निकला। सुना है कि वह जुलूस प्रदर्शन में भी शामिल था। शान्त माने जाने वाले पहाड़ पर भी मासूमों के साथ कुकृत्य की घटनाये सामने आ रही है। उत्तराकाशी की घटना ने तो सभी का दिल दहला दिया। टिहरी में पिछले 20 महीनों के अन्दर 16 कुकृत्य की घटनाओं के मामले दर्ज हैं, वह भी नाबालिकों के साथ। इसमें बाहरी कम तो भीतरी जादा हैं और कुछ तो अच्छे खासे पढ़े लिखे भी हैं, एक को सजा भी हो गई है। उत्तरकाशी के मामले में बाहरी-बाहरी के बबाल ने तो सभी बाहरियों में डर पैदा कर दिया था। वह तो मामले का खुलासा हो गया वरना हर बाहरी संदेह के घेरे में होता। वैसे तो सोचा यह भी जाना चाहिये कि पहाड़ से भी काफी लोग बाहर हैं और शायद सबसे जादा हैं, यदि किसी एक ने कुकर्म किया तो सभी को उस नजरिये से नही देखा जाना चाहिये।

मुकेश पंवार।

Spread the love