मंत्री प्रसाद नैथानी,गंगा दशहरा का पर्व हो और,लाखों श्रद्धालुओं को अपना अश्रीवाद देने वाले बाबा विश्वनाथ और माँ जगदीशिला की डोली की बात ना हो ऐसा हो ही नही सकता।

टिहरी : कोविड-19 संक्रमण के चलते अधिकांश धर्मिक कार्य बंद पड़े हुए हैं.. यहाँ तक चारधाम यात्रा भी कपाट खुलने के बाद शुरू नही हो पायी है.. ऐसे में गंगा दशहरा का पर्व हो और उत्तराखंड भ्रमण पर हर वर्ष लाखों श्रद्धालुओं को अपना अश्रीवाद देने वाले बाबा विश्वनाथ और माँ जगदीशिला की डोली की बात ना हो ऐसा हो ही नही सकता..
कोरोना संक्रमण के चलते गंगा दशहरा पर्व पर पूर्व कैबिनेट मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी के द्वारा तो गंगा दशहरा का पर्व अपने हाल निवास स्थान देहरादून में पूजा अर्चना करके गायी को फल खिलाकर मनाया गया।
वहीं स्थानीय लोगों ने बाबा विश्वनाथ और माँ जगदीशिला की डोली को इस शुभ मुहूर्त पर विश्वनाथ मंदिर में जगराता रहकर स्नान कराया गया.. और गंगा स्वरूपी गौ की पूजा अर्चना की गयी.. हर वर्ष की तरह डोली देव स्थलों के भ्रमण पर नही जा सकी.. इस मौके पर पूर्व कैबिनेट मंत्री नैथानी ने भगवान से कोविड-19 महामारी को जल्द ख़तम कर विश्व कल्याण की कमाना की..
वहीं पूर्व मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी के गाँव कोट में माँ बालासुंदरी फाउंडेशन के तत्व्धनों में तीसरी बार गंगा दशहरा का पर्व मनाया गया.. लेकिन कोरोना संक्रमण के तहत लोगों ने गंगा दशहरा का पर्व अपने-अपने घरों में सादगी से मनाया.. ग्रामीणों ने टैकनोलजी का इस्तेमाल करते हुए सोशल मीडिया के माध्यम से एक दुसरे के साथ इस पवन पर्व की ख़ुशी मनायी.. ग्रामीणों ने इस मौके पर भजन आरती करते हुए अपने अपने घर से विडियो बनाकर सोशल मीडिया के माध्यम से एक दुसरे के साथ साँझा की..
आपको अवगत करा दें की माँ बालासुंदरी फाउंडेशन धार्मिक कार्यक्रमों के साथ ही सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़ कर कार्य करती नज़र आ रही है। हाल में ही कोट गाँव में बालासुंदरी फाउंडेशन के द्वारा एक भव्य मंदिर का निर्माण भी किया जा रहा है.. इसके साथ ही बालासुंदरी फाउंडेशन क्षेत्र के कई विद्यालयों में जरूरतमंद, निराश्रित,और दिव्यांग छात्र-छात्राओं के पढाई-लिखाई के खर्चे का निर्वहन भी लम्बे समय से कर रहा है.जो की सभी के लिए प्रेरणा दयाका है.

Spread the love

You may have missed