उत्तराखंड के सरकारी विद्यालयों में है सबसे योग्य शिक्षक, बस है एक कमी है ,चिन्ताजनक।

देहरादून- रिपोर्टर-उपेन्द्र पुंडीर : सरकारी स्कूलों में छात्रों की घटती संख्या चिन्ताजनक है। सबसे योग्य शिक्षक हमारे सरकारी विद्यालयों में है, फिर भी सरकारी स्कूलों में छात्रों की घटती संख्या पर विचार करना होगा। उक्त विचार आज रामनगर डांडा थानों स्थित शहीद नरपाल सिंह राजकीय कन्या उच्च प्राथमिक विद्यालय पहुंचकर सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने व्यक्त किए। दरअसल सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत आज शहीद नरपाल सिंह राजकीय कन्या उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य विरेन्द्र सिंह कृषाली के सेवानिवृति कार्यक्रम में पहुंचे थे।शहीद नरपाल सिंह राजकीय कन्या उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य विरेन्द्र सिंह कृषाली की सेवानिवृति के अवसर पर सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुभकामनाएं दी
सरकारी शिक्षा की गुणवत्ता बढाने पर हो फोकस प्रधानाध्यापक विरेन्द्र सिंह कृषाली के सेवानिवृति पर आयोजित विदाई स्नेह भोज कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि शिक्षकों का अस्तित्व छात्रों पर निर्भर है। हमें सरकारी स्कूलों में शिक्षा की गुणवता व छात्र-छात्राओं के चहुंमुखी विकास पर विशेष फोकस करना होगा। सरकार द्वारा एनसीईआरटी की पुस्तकें लागू की गई है। शिक्षा तंत्र में सुधार हेतु निरन्तर प्रयास किए जा रहे हैं। हमें मिलजुल कर विचार करना होगा कि सरकारी विद्यालयों की स्थिति को कैसे बेहतर किया जाय।

इस दौरान सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सेवानिवृत प्रधानाचार्य विरेन्द्र सिंह कृषाली को स्मृति चिह्न भेंट करते हुए उन्हें शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर विधायक शमशेर सिंह पुण्डीर, ग्राम प्रधान राधेश्याम बहुगुणा व बड़ी संख्या में शिक्षक-शिक्षिकाएं व विद्यार्थी उपस्थित रहे।

Spread the love

You may have missed