30 घंटे बाद भी नहीं खुला ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे कार पर गिरा मलबा, वाहन स्वामी ने किसी तरह बचाई जान।

30 घंटे बाद भी नहीं खुला ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे
कार पर गिरा मलबा, वाहन स्वामी ने किसी तरह बचाई जान

नई टिहरी। ऋषिकेश-गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग 30 घंटें बाद भी आवाजाही के लिए खुल नहीं पाया है। मार्ग नरेंद्रनगर के निकट पुरानी चुंगी में भारी भूस्खलन से अवरूद्ध है। मलबे में एक कार पूरी तरह से दब गई लेकिन कार चालक हरिचंद थलवाल ने सूझबूझ का परिचय किसी तरह भागकर जान बचाई। मलबा आने के बाद से ही दो प्रशासन और निर्माण ऐजेंसी ने जेसीबी तैनात की गई लेकिन अभी तक मार्ग खोलने में सफलता नहीं मिली है।
ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे 15 अगस्त को अपरान्ह 12 बजे नरेंद्रनगर की पुरानी चुंगी के पास अवरुद्ध हो गया था। पहाड़ी दरकने से मार्ग 30 घंटे बाद भी नहीं खुल पाया है। पहाड़ धंसने से 111 केवी और 33 केवी की बिजली लाइन और नरेंद्रनगर की पेयजल योजना भी क्षतिग्रस्त हो गई। इस कारण कई गांवों की विद्युत आपूर्ति ठप हो गई। राजमार्ग बंद होने से छोटे वाहन वाया पीटीसी से भेजे जा रहे हैं। जबकि बड़े वाहन भद्रकाली में ही रोक दिए गए। नगर क्षेत्र के विद्या भूषण जोशी, हर्षमणि भट्ट, गोपाल दत्त बिजल्वाण, संगीता, गोदांबरी, उत्तम सिंह नेगी ने एसडीएम को ज्ञापन देकर नगर क्षेत्र में टैंकर लगाकर जलापूर्ति कराने की मांग की है। एसडीएम लक्ष्मीराज चौहान का कहना है कि मार्ग को खोलने के लिए मशीनें युद्ध स्तर पर कार्य कर रही हैं।

Spread the love