देहरादून: १२० महिलाओं की जाँच की गयी है,भारतीय महिलाएं कम उम्र में भी शिकार बन रही हैं। शिविर कल भी चलेगा,

देहरादून: स्तन कैंसर जागरूकता माह अक्टूबर में कैन प्रोटेक्ट फाउंडेशन द्वारा अग्रवाल धर्मशाला  देहरादून में  दो दिवसीय स्तन कैंसर रोकथाम एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया, शिविर के पहले दिन १२० महिलाओं की स्तन स्क्रीनिंग की जिसमे डॉक्टर की देखरेख में थर्मो मैमोग्राफी टेस्ट भी किये गए।  कुछ महिलाओं में असामान्य लक्षण मिलने पर उनको मैमोग्राफी की सलाह भी दी गयी। शिविर में आयी महिलाओं को डॉ सुमिता प्रभाकर द्वारा स्तन कैंसर के लक्षणों के बारे में एवं स्वयं स्तन परिक्षण के बारे में बताया गया। इसके साथ ही सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए एच पी वी वायरस एवं  पेप स्मीयर टेस्ट की भी विस्तृत जानकारी दी गयी।

कैन प्रोटेक्ट की अध्यक्ष डॉ सुमिता प्रभाकर ने बताया की भारत में स्तन कैंसर के मामलो में लगातार वृद्धि हो रही हैं , स्तन कैंसर से बचाव का सबसे अच्छा रास्ता नियमित जाँच, जागरूकता, शिक्षा एवं इसका जल्दी पता लगना हैं।  यह तभी संभव है जब महिलाए अपनी समय समय पर जाँच करवाएं एवं घर में हर महीने स्वयं स्तन परिक्षण करें।  कैन प्रोटेक्ट फाउंडेशन द्वारा हम समय समय पर उत्तराखंड एवं आस पास के राज्यों में कई शिविरों का आयोजन कर रहे हैं, संस्था द्वारा कैंसर शिक्षा के लिए कई स्कूलों एवं कालेजों में कई लेक्चर दिए जा रहे है। इसमें छात्र छात्रों का भी सहयोग मिल रहा है। अक्टूबर में संस्था द्वारा कई निःशुल्क महिला स्वास्थय शिविर का आयोजन किया गया और इस माह के अंत में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी अग्रवाल धर्मशाला में मेगा शिविर का आयोजन किया गया जो दो दिन तक चलेगा।
भारत में बीते एक दशक में स्तन कैंसर के मामले कई गुना बढ़ गए हैं और पश्चिमी देशों की तुलना में भारतीय महिलाएं कम उम्र में भी शिकार बन रही हैं। सही जानकारी, जागरूकता, थोड़ी सी सावधानी और समय पर इसके लक्षणों की पहचान और इलाज से कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है।
इस अवसर पर डॉ हुमा, डॉ दीपिका, डॉ विनीता, प्रवीण डंग , सिस्टर निर्मला, ललित आनंद, मीनू कौशिक, ऋतू आनंद, अनुपम, समीर एवं सनराइज अकादमी से आयी  छात्राएं उपस्थित रही।
Spread the love