मुख्यमंत्री श्री रावत द्वारा वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से पुरस्कार विजेताओं को सम्बोधित किया गया

नई टिहरी – ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर उरेडा विभाग के तत्वाधान में आयोजित वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा उर्जा संरक्षण के क्षेत्र में ऊर्जा की बचत करने हेतु एलईडी बल्ब, झालर, लड़ियां आदि बनाकर बेहतर कार्य करने वाले स्वयं सहायता समूहों, केन्द्र सरकार द्वारा ऊर्जा दक्ष ग्राम के रुप में चयनित हुए ग्रामों के ग्राम प्रधानों एवं ऊर्जा संरक्षण जागरुकता के लिए बेहतर कार्य करने वाले छात्र-छात्राओं को राज्य स्तरीय पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। कोरोनाकाल के चलते कार्यक्रम प्रदेश के सभी जनपदों में स्थित एनआईसी कक्ष में आयोजित हुआ जहां पर सम्बन्धित जिलाधिकारियों द्वारा अपने-अपने जनपद के राज्य स्तरीय पुरस्कार विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री श्री रावत द्वारा वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से पुरस्कार विजेताओं को सम्बोधित किया गया तथा पुरस्कार विजेताओं से संवाद स्थापित कर ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में उनके कार्य अनुभवांे की जानकारी ली गयी तथा बेहतर कार्य करने के लिए प्रेरित के साथ ही महत्वपूर्ण सुझाव भी दिये गये।
जनपद टिहरी गढ़वाल के नई टिहरी स्थित एनआईसी कक्ष में जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव द्वारा विकासखण्ड देवप्रयाग के पंचुर ग्राम संगठन के अन्तर्गत चन्द्रबदनी स्वंय सहायता समूह की सदस्य कुसुमलता तिवाड़ी व शिवशंकर स्वंय सहायता समूह की सदस्य राखी देवी को ऊर्जा संरक्षण हेतु एलईडी बल्ब बनाने के कार्यों के लिए, केन्द्र सरकार की ओर से दक्ष ग्राम के रूप में चयनित विकासखण्ड चम्बा के ग्राम बुडोगी की ग्राम प्रधान सुलोचना चैहान को ग्राम वासियों को एलईडी बल्ब व ऊर्जा बचत पंखों के प्रयोग हेतु पे्ररित करने के लिए एवं राजकीय प्रताप इण्टर कालेज बौराड़ी के 12वीं के छात्र दिवाकर प्रसाद व राजकीय बालिका इण्टर कालेज बौराड़ी की 12वीं छात्रा रवीना चैहान को विभिन्न प्रतियोगिताओं के माध्यम से ऊर्जा संरक्षण हेतु जागरूकता लाने के लिए राज्य स्तरीय पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। जिलाधिकारी द्वारा सम्बन्धितों को प्रशस्ति पत्र एवं सील्ड देकर सम्मानित किया गया।
बता दें कि पंचुर ग्राम संगठन के अन्तर्गत विभिन्न महिला स्वंय समूहों की 25 महिलाओं द्वारा इसी वर्ष के माह मार्च में प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरान्त 7 वाट क्षमता के 100 एलईडी बल्ब, 9 वाट क्षमता के 300 एलईडी बल्ब तथा 100 चार्जिंग एलईडी बल्ब का निर्माण करते हुए स्थानीय बाजारों में विक्रय किया गया। वहीं ग्राम बुडोगी का चयन केन्द्र सरकार द्वारा दक्ष ऊर्जा ग्राम के रूप में किया गया जिसके तहत बुडोगी ग्राम के घरों में उरेडा विभाग की ओर से 407 एलईडी बल्ब एवं 229 ऊर्जा बचत पंखे निःशुल्क बदलें गये जिसमें ग्राम प्रधान द्वारा सहयोग प्रदान किया गया। वहीं छात्र दिवाकर प्रसाद व छात्रा रवीना चैहान द्वारा चित्रकला, वाद-विवाद आदि विभिन्न प्रतियोगिताओं के माध्यम से ऊर्जा संरक्षण हेतु जागरूकता लाने का कार्य किया गया। जिस हेतु सम्बन्धितों को राज्य स्तरीय पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने ऊर्जा संरक्षण सम्बन्धी उपकरणों को तैयार करने वाले स्वंय सहायता समूहों की महिलाओं को आगामी कुम्भ मेले की थीम पर झालर व अन्य उपकरण बनाने का सुझाव दिया। श्री रावत द्वारा ऊर्जा संरक्षण सम्बन्धी उपकरणों को तैयार करने वाले महिला स्वंय सहायता समूहों को रिवालिंग फंड के लिए रूपये पचास-पचास हजार की धनराशि दिये जाने की घोषणा की गयी।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक रूहेला, वरिष्ठ परियोजना अधिकारी उरेड़ा मनोज कुमार आदि उपस्थित थे।

Spread the love

You may have missed