कैबिनेट बैठक: प्रदेश में भेड़ पालकों की सुधरेगी माली हालत, ऑस्ट्रेलिया मेरिनो पर लगी मुहर

देहरादून: उत्तराखंड कैबिनेट बैठक में आज अहम फैसला लिया गया. जिसमें प्रदेश में भेड़ पालकों के लिए नई योजना पर मुहर लगी है. जिसमें भेड़ों की नस्ल को सुधारने के लिए ऑस्ट्रेलिया से मेरिनो नस्ल की भीड़ खरीदे जाएंगी. जिससे सूबे में भेड़ पालन को बढ़ावा मिल सकें. वहीं कैबिनेट की मीटिंग में इसके लिए 6 करोड़ के बजट पर मुहर लगी है.

नस्ल सुधारने के लिए जल्द ऑस्ट्रेलिया  से मेरिनो  नस्ल 240 भीड़ें खरीदी जाएंगी. जिसके लिए मीटिंग में इसके लिए 6 करोड़ रुपये की लागत पर मुहर लगी है.  प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में अधिकतर लोग भेड़ पालन कर गुजर-बसर करते हैं. जो पुरानी नस्ल के ही भेड़ पालते हैं. साथ ही पशु पालकों की स्थिति इसके बावजूद बेहतर नहीं हो पाती है. सरकार ने पशु पालन को बढ़ावा देने के लिए कमर कस ली है. जिसके लिए कैबिनेट बैठक में  मुहर लग चुकी है.  इससे पहले भी पूर्व की सरकार पशु पालन को बढ़ावा देने का प्रयास कर चुकी है. लेकिन सरकार की ये कवायद परवान नहीं चढ़ पाई. 

इस नस्ल से भेड़पालकों को बड़ा फायदा होगा. अभी तक उत्तर भारत में अधिकांश जगहों पर भेड़ की केवल नाली नस्ल को पाला जाता है. इसके आने से भेड़पालकों को ऊन के साथ-साथ भेड़ की बिक्री अच्छे दामों पर होने से बढ़िया आमदनी होगी. वर्तमान समय में ऊन के दाम निचले स्तर पर हैं. बताते चलें कि उत्तराखंड की अहम कैबिनेट बैठक आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता सचिवालय में की गई. बैठक में मंत्री मदन कौशिक, प्रकाश पंत, यशपाल आर्य, हरक सिंह रावत, सतपाल महाराज, अरविंद पाण्डे समेत कई कैबिनेट मंत्री मौजूद रहे.

बैठक में 11 फरवरी से बजट सत्र आहूत करने का फैसला लिया गया. साथ ही मंत्रिमंडल ने बाल विकास में रजिस्टर्ड राज्य के सभी बच्चों को नौकरियों में 5 प्रतिशत समानांतर आरक्षण देने के प्रस्ताव पर मुहर लगाई. इसके अलावा बैठक में राज्यकर्मियों के 7वें वेतनमान के आधार पर 6 महीने के एरियर भुगतान पर भी सहमति बन गई है.

Spread the love